🔹 *72 करोड़ ओबीसी जागो* 🔹
*जो बोलते है आरक्षण की वजह से जॉब नही मिल रही वो अवश्य जान ले कि तुम्हारी जॉब कौन हडप रहा है..*
🔹 *जानो और जागो* 🔹
*”आरक्षण क्या है ??* — 
*जिसकी जितनी संख्या भारी,*

*उसकी उतनी हिस्सेदारी”*
🔹 *देश का OBC समाज जिनकी संख्या (65%) है वो अब जाग रहा है.*
🔹 *भारत में लोकतंत्र लागू है पर इन 67 वर्ष में सरकारों ने यहां ब्राह्मणतंत्र स्थापित कर लिया है, ये रहे सबूत* 🔹
*(1) राष्ट्रपति – प्रणव मुखर्जी – ब्राह्मण*

*(2) प्रधानमंत्री – नरेंद्र मोदी – बनिया*

*(3) ग्रहमंत्री – राजनाथ सिंह – ठाकुर*

*(4) विदेशमंत्री – सुषमा स्वराज – ब्राह्मण*

*(5) वित्तमंत्री – अरूण जेटली – ब्राह्मण*

*(6) रक्षामंत्री – मनोहर पारीकर – ब्राह्मण*

*(7) सड़क एवं परिवाहन मंत्री – नितिन गडकरी – ब्राह्मण*

*(8) महिला एवं बालविकास मंत्री – मेनका गांधी – वैश्य*

*(9) लोकसभा स्पीकर – सुमित्रा महाजन – ब्राह्मण*

*(10) प्रधानमंत्री के मुख्यसचिव – न्रपेंद्र मिश्रा – ब्राह्मण*
🔹 *(11) राष्ट्रपति कार्यालय में कुल 49 अधिकारी काम करते है. जिनमें OBC के होने थे 32 जबकि है केवल 0.सामान्य के होने थे 5, जबकि है 49.*

🔹 *(12) प्रधानमंत्री कार्यालय में कुल 53 अधिकारी काम करते है, जिनमें OBC के होने थे 35, जबकि हैं केवल 0. सामान्य के होने थे 6, जबकि है 53.*

🔹 *(13) विदेशी दूतावास में कुल 140 अधिकारी काम करते हैं, जिनमें OBC के होने थे 91, जबकि है केवल 0, सामान्य के होने थे 21 , जबकि है 140.*

🔹 *(14) भारत सरकार में कुल 96 सचिव हैं, जिनमें OBC के होने थे 60, जबकि है केवल 0. सामान्य के होने थे 8 , जबकि है 96.*

🔹 *(15) भारत सरकार के केंद्रीय मंत्रिमंडल में कुल 27 मंत्री हैं. जिनमें OBC के होने थे 20, जबकि है केवल 2, सामान्य के होने थे 3, जबकि है 20.*
*🔹टाप 10 मंत्रीयों में सो एक भी ओबीसी नहीं.*
🔹 *(16) भारत में कुल 4657 आई.ए.एस. हैं. जिनमें OBC के होने थे 3027, जबकि हैं केवल 655. सामान्य के होने थे 699, जबकि है 2993.*

🔹 *(17) देश के 18 राज्यों के हाईकोर्ट में कुल 481 जज हैं, जिनमें OBC के होने थे 313, जबकि हैं केवल 36. सामान्य जाति को होने थे 72, जबकि है 426.*

🔹 *(18) मध्यप्रदेश के हाईकोर्ट में कुल 30 जज हैं. जिनमें से OBC के होने थे 20, जबकि है केवल 0. सामान्य जाति के होने थे 5 , जबकि है 30.*

🔹 *(19) भारत के सुप्रीम कोर्ट में कुल 42 जज हैं. जिनमें OBC के होने थे 20, जबकि हैं केवल 0. सामान्य जाति के होना थे 3, जबकि हैं 40.*

🔹 *(20) भारत के 46 विश्वविद्यालयों में कुल 46 कुलपति हैं . जिनमें ओबीसी के होने थे 25, जबकि है केवल 0. सामान्य के होने थे 5, जबकि है 46*

🔹 *(21) बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (BHU ) में कुल 670 प्रोफेसर हैं, जिनमें OBC के होने थे 435, जबकि हैं केवल 0. सामान्य जाति के होने थे 100, जबकि हैं 670.*

🔹 *(22) दिल्ली विश्वविद्यालय ( DU) में  कुल 249 प्रोफेसर हैं. जिनमें OBC के होने थे 162, जबकि हैं केवल 0. सामान्य जाति के होने थे 37, जबकि हैं 249.*

🔹 *(23) जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में कुल 470 प्रोफेसर हैं. जिनमें से OBC के होने थे 305, जबकि हैं केवल 2. सामान्य जाति के होने थे 70, जबकि हैं 426.*

🔹 *(24) आई.आई.एम. लखनऊ में कुल 40 प्रोफेसर हैं, जिनमें से OBC के होने थे 26, जबकि हैं केवल 1. सामान्य जाति के होने थे 6, जबकि है 30.*

🔹 *(25) भारत सरकार के कार्मिक मंञालय की रिपोर्ट 13 फरवरी 2012 के अनुसार दिनांक 01/12/10 तक विभिन्न वर्गों की नौकरी में संख्या और प्रतिनिधित्व निम्न है.*
प्रथम श्रेणी में  :-

वर्ग.     संख्या    आरक्षण अस्तित्व मे

*GEN (12.5%) – 0%     75.5%,*

*OBC (65%) – 27%      8.4%*

*SC/ST(22.5%)22.5%   16.1%*
द्वितीय श्रेणी में :- आरक्षण अस्तित्व 

Open (12.5%) – 0%    82.2%,

OBC    (65%) – 27%     6.1% 

SC/ST(22.5%)22.5%   11.7%
तीसरी श्रेणी में :- आरक्षण अस्तित्व 

Open (12.5%) – 0%  71.9%

OBC  (65%) – 27%  14.8%

SC/ST(22.5%)22.5% 13.3%
चतुर्थ श्रेणी में :- आरक्षण अस्तित्व 

Open (12.5%) – 0%         69%

OBC (65%) – 27%        15.2%

SC/ST(22.5%) 22.5%  15.8%
🔹(26) देश के उद्योग जगत की विभिन्न कंपनियों के बोर्ड मेम्बरों की स्थिति निम्न हैं.

*GEN -12.5% –  है -92.6%*

*Sc/St-22.5%- है -3.5%*

*OBC- 65% –   है-  3.8%*
🔹(29) देश में आरक्षण की स्थिति :-
वर्ग.      संख्या   आरक्षण

*Sc –   15% –    15%*

*St –    7.5% –   7.5%*

*Obc-  65%  –   27%*
🔹(30) मध्यप्रदेश में वर्तमान में आरक्षण की स्थिति :-
वर्ग.      संख्या      आरक्षण

*एससी –  16%   –  16%*

*एसटी –   20%   – 20%*

*ओबीसी- 54%   – 14%*
*जबकि OBC को केरल में 40%, बिहार में 33%, कर्नाटका में 32% ,अंडमान में 38%, आंध्रप्रदेश में 29%, और तमिलनाडू में 50% आरक्षण है.*
🔹 *(31) 10% सवर्णों का नौकरी में 79% हिस्सा होने के बाद भी हाल ही में राजस्थान हाईकोर्ट ने संविधान के विरूद्ध जाकर उन्हे 14% आरक्षण दिया है.*

🔹 *(33) संविधान द्वारा गठित मंडल कमीशन ने OBC के कर्मचारियों को पदोन्नति में आरक्षण दिया, परन्तु सुप्रीमकोर्ट ने 16 नबम्वर 1992 को फैसला देकर उस पर रोक लगा कर  धोका किया है.*

🔹 *(33) हाल ही में गुजरात, राजस्थान और उ.प्र. हाईकोर्ट ने तथा सुप्रीमकोर्ट ने आरक्षण के संबंध में संविधान के विरूद्ध फैसले दिये हैं. इससे लगता है कि लोकतंत्र , संविधान और आरक्षण बड़े खतरे में है.*

🔹 *(34) 100 दिन के लिये मुझे सत्ता दे दो. यदि काला धन वापस नहीं ला पाया तो मुझे फांसी दे देना — नरेंद्र मोदी — 3 फरवरी 2013*

🔹 *(35) 3% ब्राह्मण, जो ग्राम पंचायत का चुनाव भी नहीं जीत सकता है वो देश की पंचायत ( संसद) पर कब्जा जमायें बैढ़ा है..*

🔹 *(36) सरकारी विद्यालयों का निजीकरण नहीं बल्कि निजी विद्यालयों का राष्ट्रीयकरण होना चाहिये.*

🔹 *(37) संस्क्रत से पी.एच.डी. किया हुआ एक OBC को मंदिर में पूजा करवाने का अधिकार नहीं है, लेकिन एक पांचवी फेल ब्राह्मण को सभी अधिकार है , क्यों ? 5000 सालो से चला से चला आ रहा ये कैसा आरक्षण है ?*

🔹 *(39) देश के 4 बड़े मंदिरों में प्रतिदिन 8 करोंड़ रू.की चढौत्री आती है. इस पर 100% अधिकार ब्राह्मणों का ही क्यों ? मंदिरों की संपत्ति देशवासियों में बाट दी जाये तो सभी करोड़पति हो जायें.*

🔹 *(40) म.प्र. सरकार पर 125 हजार करोड़ का कर्ज है. प्रत्येक व्यक्ति पर 12000 रू.है.*

🔹 *(41) अमेरिका देखा, पेरिस देखा, और देखा जापान, कनाडा देखा, चाईना देखा, सब देखा मेरी जान..*

*मगर न देखी उजड़ी खेती, और मरता किसान ……*

🔹 *(42) किसान प्रेम प्रसंग के कारण आत्महत्या कर रहें – राधामोहन सिंह – केंद्रीय क्रषिमंत्री राधामोहन सिंह*

🔹 *(43) म.प्र. में किसानों की फसल का 2136 करोड़ का बीमा हुआ. 141 करोड़ रू. की प्रीमियम कंपनी को दी गई. जब किसानों को मुआबजा देने की बारी आई तो केवल 1.65 करोड़ रू ही  दिये गये। क्यों ??*

🔹 *(44) केंद्र की पिछली सरकार में क्रषि बजट 20,208 करोड़ रू. था, मोदी सरकार ने 13,523 करोड़ रू. कर दिया. कटौती – 7685 करोड़ रू. की.*

🔹 *(45) भारत में एक दिन में 46 किसान आत्महत्या करते है.1995 से 2013 के बीच 2,96,438 किसान आत्महत्या कर चुके हैं.*

🔹 *(46) भारत सरकार के स्वास्थ बजट में पिछली सरकार में 35,163 करोड़ रू. का प्रावधान था. इस बार मोदी सरकार ने 29,653 करोड. रू. का प्रावधान किया है. कटौती – 5510 करोड़ रू.की.*

🔹 *(47) पुलिस सुधार फंड में 1500 करोड़ की कटौती.*

🔹 *(48) इस सरकार नें एससी/एसटी के बजट में 32000 करोड़ की कटौती की है.*

🔹 *(49) करदाताओं के पैसे पर मौज कर रहे है उद्योगपति- रघुराज रंजन – गवर्नर भारतीय रिजर्व बैंक.*

🔹 *(50) देश में प्रतिवर्ष 35 लाख युवा ग्रेजुएट होते है, तथा 65 लाख युवा 12 वीं पास करते हैं. परन्तु सरकार ने 30 लाख जॉव की छटनी की है.*

🔹 *(53) अर्जुन सेन गुप्ता कमेटी की रिपोर्ट के अनुसार :- देश में 29 करोड़ लोग भुखमरी के शिकार हैं, 83 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन जी रहे हैं.*

========================

*लेख की साम्रगी – विभिन्न समाचार पत्रों, मंडल आयोग की रिपोर्ट, लोकसभा में लगाये प्रश्न, आर.टी.आई.,विभिन्न कमीशनों की रिपोर्ट और विभिन्न लेखकों की पुस्तकों पर आधारित है.*

Advertisements