आरक्षण को समझने का बहुत सही गणित है

माना कि 100 व्यक्ति हैं और इन 100 व्यक्तियों कोे खाने के लिए 100 रोटियां हैं…!!!!
वर्तमान में पिछड़ी जाति OBC के 60 व्यक्तियों को खाने के लिए सिर्फ 27 रोटियों की व्यवस्था है..!!!
अनुसूचित जाति SC व जनजाति ST के 25 व्यक्तियों के एक समूह के लिए सिर्फ 22.5 रोटियों की व्यवस्था है।
अब सामान्य वर्ग के तकरीबन 15 आदमियों के लिए 50 रोटियां शेष बचती हैं।
पर समस्या ये है कि इन सामान्य वर्ग GENERAL के 15 आदमियों में से 3% मनुवादी जाति के आदमी बेहद चालाक,शातिर,शक्तिशाल­ी हैं जो शेष बची 50 रोटियों में से लगभग 45 रोटियां खाये जा रहे हैं और अपनी तरफ़ से ध्यान बटाने के लिए यह झूठा शोर मचा रहे हैं कि वे 27% OBC वाले तुम्हारा हिस्सा खा रहे हैं,और तुम्हैं भी OBC List में डालकर खुद काल्पनिक श्रेष्ठ बने रहना चाहते हैं जब कि वास्तव में श्रेष्ठ नहीं हैं…!!!
समस्या ये है कि सामान्य वर्ग General के 12 आदमियों के लिए मुश्किल से सिर्फ 5 रोटियां ही मिल पा रहीं है इसी कारण सामान्य जाति के मराठा, लिंगायत, पटेल या पाटी दार अपने लिए OBC की 27 रोटियों में हिस्सेदारी मांग रहे हैं जबकि उन्हें 50% में से हिस्सेदारी ले लेनी चाहिये..!!! पर निशाना ग़लत जगह पक लगा रहे हैं..!!!
 वास्तविकता समस्या यह है कि OBC के 60 लोग पहिले से ही बहुत कम हिस्सा यानि सिर्फ 27 रोटियों पर गुजारा करके अपनी जिंदगी चला रहे हैं ऐसे में वो मराठा और लिंगायत में अपने हिस्से की 27 रोटियां बांटने को हरगिज तैयार नही हैं और समाज में मनुवादियोंकी शातिर चालों में फँस कर काफ़ी ज़्यादा तनाव पैदा किया जा रहा है और OBC को OBC से तथा SC को SC से लड़ाने की गहरी शाजिश रची जा रही है जो आपको इस सरलता से समझ में आ जायेगी…!!!
इस समस्या का यही समाधान है कि कोर्ट द्वारा निर्धारित की गई नक़ली सीमा रेखा 50% आरक्षण की को लांघा जाऐ और मराठा, और लिंगायत के साथ साथ सभी जातियों को उनकी संख्या के अनुपात में शिक्षा/ नौकरियों में आरक्षण देकर न्याय किया जाऐ,जैसा कि तमिलनाडु में पहिले है…!!!
अब 60 लोगों के हिस्से की 27 रोटियों पर झपट्टा मारने से बात नही बनेगी…क्यों कि असली माल तो कोई और ही खाये जा रहा है और सामने भी नहीं आ रहा…!!! कौन कितनी रोटी खा रहा है इस बात पर ध्यान करने पर पता चल जायेगा कि सिर्फ 3% लोग कितनी रोटी(>45)से भी ज़्यादा हड़प रहे हैं और OBC की जातियों को बेवक़ूफ़ बना रहे हैं….!!!
अब सारी पिछड़ी जाति OBC के लोग और जाट, गूजर , अहीर , यादव , गडरिया , सुनार, लोहार , कुम्हार , कश्यप , निसाद , कुशवाहा , सैनी माली , मराठा, लिंगायत, पटेल आदि एक मंच पर आऐं और जरूरत इस बात की है कि 3% मनुवादी से अपना हिस्सा छीने जो सिर्फ 3% होकर 45 रोटियां तोड़े जा रहे हैं।अगर ये 3% मनुवादी सिर्फ 3 रोटी खाकर जीना सीख लें तो समाज मे कोई भी भूखा नहीं रहेगा!!!
यदि गणित समझ में आ गया हो और अच्छा लगा तो फिर सभी SC/ST/OBC सभी में जागरूकता पैदा करने का अभियान चलाओ और अपना हिस्सा ले कर रहो….!!
जागो बहुजनो जागो….

जय भीम जय सविधान Jay mulniwasi …..

Advertisements